Breaking

Sunday, November 11, 2018

पिता की मनोकामना | Wishes by father

एक बार एक पिता और पुत्र समुद्र में अपनी मोटर बोट से यात्रा कर रहे थे | तभी अचानक तूफान आ गया | तेज हवाओं और ऊंची-ऊंची लहरों के कारण वह रास्ता भटक गए | तूफान के कारण उनकी मोटर बोट भी किसी बड़े पत्थर से टकराकर क्षतिग्रस्त हो गई थी और उसमें छेद हो गया था | उससे मोटर बोट में पानी भरने लगा था उसका डूबना निश्चित सा था |

father and son on boat


तभी उन्हें दूर एक टापू दिखाई दिया | वह टापू की ओर अपनी मोटर बोट को ले गए | टापू पर पहुंचकर वह मोटर बोट से उतर गए | कुछ पलों में ही मोटरबोट पानी में डूब गई | कुछ देर के बाद तूफान थम गया | पिता पुत्र ने देखा कि यह एक बिल्कुल सुनसान टापू था | यहाँ पर दूर-दूर तक केवल रेत ही रेत थी | यहां रहने और खाने के लिए कुछ भी नहीं था | टापू पर भटकते-भटकते पिता और पुत्र भूख और प्यास से बेहाल हो गए थे | पुत्र ने पिता से कहा यहां पर खाने पीने को कुछ भी नहीं है अब हमारा मरना निश्चित है |


पिता ने पुत्र को समझाया कि भगवान हमारी रक्षा अवश्य करेंगे तभी उन्होंने हमें डूबने से बचाकर इस सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया है | पिता ने पुत्र को भगवान से प्रार्थना करने के लिए कहा | पुत्र को पिता की सलाह उचित लगी | पिता और पुत्र दोनों थोड़ी दूरी पर अलग-अलग बैठकर भगवान से प्रार्थना करने लगे | पुत्र ने भगवान से प्रार्थना की "हे प्रभु इस टापू पर फल और सब्जियां आ जाए जिसे खाकर अपनी भूख मिटा सके" | भगवान ने पुत्र की प्रार्थना स्वीकार कर ली | अगले ही पल वहां पर फल और सब्जियां प्रकट हो गई | पिता और पुत्र को खाना बनाना नहीं आता था | इसलिए पुत्र ने एक बार फिर भगवान से प्रार्थना की कि खाना बनाने के लिए एक सुंदर स्त्री भी आ जाए तो वह खाना भी बना देगी उसके साथ मैं अपना परिवार बनाकर रह भी सकूंगा | अगले ही पल एक सुंदर स्त्री प्रकट हो गई |


girl on boat


उस सुंदर स्त्री ने खाना बनाया और पिता-पुत्र ने भरपेट खाना खाया | पिता ने पुत्र को सलाह दी कि तुम्हारी सभी प्रार्थनाएं भगवान द्वारा स्वीकार हो रही है | तुम यहां से निकलने के लिए  भगवान से एक नाव भिजवाने के लिए प्रार्थना करो | पुत्र ने भगवान से नाव भेजने के लिए प्रार्थना की | भगवान ने पुत्र की प्रार्थना स्वीकार करते हुए अगले ही पल नाव प्रकट कर दी | यह एक छोटी सी नाव थी जिसमें केवल दो लोग ही बैठ सकते थे |


boat on which only two person and sit

      पढ़िए : मासूम की पुकार 

पुत्र सुंदर स्त्री के सौंदर्य से प्रभावित होकर उस पर मोहित हो चुका था | पुत्र उस सुंदर स्त्री के साथ नाव की ओर जाने लगा | पिता ने पुत्र से कहा कि मुझको साथ नहीं लेकर जाओगे | पुत्र ने उत्तर दिया की “भगवान ने आपकी तो एक भी प्रार्थना स्वीकार नहीं की | ऐसा लगता है कि भगवान आपकी रक्षा नहीं करना चाहते"| तभी एक आकाशवाणी हुई "बेटा तुम्हारे लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि तुम्हारे पिता ने क्या प्रार्थना की” | तुम्हारे पिता केवल एक ही प्रार्थना करते रहे कि "हे भगवान मेरे पुत्र की हर मनोकामना को पूरी करना | तुम्हारे पिता की प्रार्थना के प्रभाव के कारण ही तुम्हारी हर प्रार्थना स्वीकार हुई है" | पुत्र ने अपनी गलती स्वीकार करते हुए पिता से क्षमा मांगी और वह दोनों नाव में बैठकर अपने घर की ओर चल दिए | सभी बच्चों को अपने माता पिता की प्यार और स्नेह भरी  भावनाओं को समझना चाहिए |

No comments:

Post a Comment