Breaking

Wednesday, October 10, 2018

क्यों कुछ लोग जीवन में सफलता के शिखर तक नहीं पहुँच पाते ? Why people don't achieve success ?

joker and elephants in circus

शहर में मशहूर सर्कस लगी हुई थी | बच्चे और पत्नी बहुत दिन से सर्कस देखने की जिद कर रहे थे | आज रविवार होने के कारण जगदीश ने सर्कस देखने का मन बना लिया था | शाम के समय जगदीश परिवार सहित टिकट लेकर सर्कस देखने पहुंच गया | सर्कस के मेन गेट में प्रवेश करने के बाद जगदीश ने देखा कि सर्कस के मैदान के नजदीक ही एक अस्थाई जगह बनाई हुई थी जहां पर सर्कस में भाग लेने वाले जानवरों के रहने की व्यवस्था की गई थी |



 
      पढ़िए :  हारने वाला कैसे बना विजेता ?

वहां पर बंधे हुए हाथियों को देख कर जगदीश को बहुत हैरानी हुई | हाथी जैसे शक्तिशाली जानवर को जो कि लोहे की जंजीरों को भी  तोड़ने में सक्षम हो केवल एक छोटी सी रस्सी से बांधा हुआ था | यह   रस्सी उनके अगले पांव में बाँधी हुई थी | कोई भी हाथी रस्सी तोड़ने की कोशिश नहीं कर रहा था | हाथियों के नजदीक ही  हाथियों को ट्रेनिंग देने वाला महावत भी खड़ा था |




elephant tied with a rope

जगदीश ने अपनी जिज्ञासा शांत करने के लिए महावत से पूछ ही  लिया “यह हाथी इतनी कमजोर रस्सी होने के बावजूद भी उसे तोड़ने की कोशिश क्यों नहीं कर रहे | यह हाथी इतने शांत कैसे हैं” | महावत ने उत्तर दिया जब यह हाथी छोटी उम्र के थे तब से ही  इनको इसी रस्सी से बांधा जाता  रहा है | जब यह छोटी उम्र के थे तब वह अधिक शक्तिशाली नहीं थे | इसलिए इन कमजोर रस्सियों को बार बार कोशिश करने पर भी तोड़ पाने में असफल रहते थे | इसलिए हाथियों के मन में यह विश्वास हो गया कि वह इस रस्सी  को नहीं तोड़ सकते | बड़ा होने पर हाथियों के मन में यह विश्वास और दृढ़ हो जाता है कि वह इन रस्सियों के बंधन को नहीं तोड़ सकते इसीलिए वह इन्हें तोड़ने की कोशिश ही नहीं करते |  जगदीश को हाथियों के बारे में यह जानकारी बहुत मजेदार लगी |

       पढ़िए : आपके कर्म ही आपका भविष्य हैं

उसने सर्कस देखने के बाद एक दिन एक विद्वान से इस बारे में चर्चा की | विद्वान ने उसे समझाया "यह हाथी इसलिए अपने बंधन नहीं तोड़ सके क्योंकि उनके मन में यह  पक्का विश्वास हो चुका था कि वह इस बंधन को तोड़ने में असफल ही रहेंगे" | इसीलिए बड़े और शक्तिशाली होने के बाद भी उन्होंने इस दिशा में प्रयास ही नहीं किये | इसी प्रकार हम भी कई बार असफल होने के बाद मन में यह दृढ़  विश्वास कर लेते हैं कि हम यह काम करने में सफल नहीं होंगे | और उसके बाद हम उस काम को करने का प्रयास ही नहीं करते | अपनी बनाई हुई मानसिक जंजीरों के कारण सक्षम होने के बावजूद भी  सारा जीवन सफलता प्राप्त नहीं कर पाते | मनुष्य को विपरीत परिस्थितियों में भी पूरे आत्म विश्वास के साथ प्रयास करते रहना चाहिए | ऐसे बहुत से उदाहरण हैं जिन्होंने बार-बार असफल होने के बाद भी अपने प्रयास नहीं छोड़े और सफलता के कीर्तिमान स्थापित किये |

       पढ़िए :  आपसी समझ और भरोसा

No comments:

Post a Comment