Breaking

Tuesday, October 30, 2018

मासूम की पुकार | pain of an innocent kid

आज रविवार का दिन था | छुट्टी का दिन होने के कारण सुनीता और उसके परिवार के सदस्य आज घर पर ही थे | सुनीता एक स्कूल में अध्यापिका थी | दोपहर के लगभग चार बज रहे थे | सुनीता पिछले दो घंटे से स्कूल के बच्चों के पेपरों की जांच कर रही थी | उसका पति मनोज उसके पास ही बैठा टेलीविजन देखने का आनंद ले रहा था |

innocent kid

सुनीता पेपरों की जांच करते करते अचानक से सिसकने लग गई थी | सुनीता के सिसकने की आवाज मनोज के कानों तक भी पहुंच गयी थी | मनोज ने ध्यान से पत्नी की ओर देखा और इसका कारण पूछा क्योंकि थोड़ी देर पहले तक तो सुनीता बहुत खुश लग रही थी | सुनीता ने बताया "मैंने बच्चों को मेरी सबसे बड़ी तमन्ना पर निबंध लिखने को कहा था | एक बच्चे ने अपनी तमन्ना टेलीविजन बनने की बताई है" |

      पढ़िए : 10 Motivational quotes by Brahama Kumari Shivani in Hindi

crying couple

 सुनीता ने कहा "उसने इसका कारण भी बताया है | यदि मैं टेलीविजन बन जाऊंगा तो पूरा परिवार मेरे नजदीक रहेगा | परिवार के सभी सदस्य मुझे ध्यान से देखेंगे और सुनेंगे | पापा ऑफिस से आने के बाद मेरे साथ बहुत सा समय बिताना पसंद करेंगे | सभी मेरे सामने बैठकर मुझे बहुत प्यार से देखते रहेंगे | टेलिविजन बनकर मैं पूरे परिवार को खुशी दे सकूंगा और पूरे परिवार का साथ मिलता रहने से मुझे भी ख़ुशी मिलेगी | यह सुनकर मनोज के दिल में भी उस बच्चे के प्रति हमदर्दी के भाव पैदा हो गए | उसने महसूस किया कि बच्चे के माता पिता उसे पर्याप्त समय और प्यार नहीं दे पा रहे हैं | बच्चे के शब्दों में दर्द और वेदना स्पष्ट रूप से झलक रही थी | सुनीता ने दर्द भरी आवाज में कहा कि "यह बच्चा कोई और नहीं बल्कि हमारा अपना ही बेटा अक्षय है" |


सुनीता और मनोज को यह एहसास हो गया था कि वह बेटे की मासूम भावनाओं को समझ नहीं पाए | वर्तमान युग में सभी के पास समय का अभाव है | यदि हम अपना अधिकांश समय टेलिविजन पर प्रोग्राम देखने में और मोबाइल पर व्हाट्सएप और फेसबुक चलाने में बिता देंगे तो यह हमारे बच्चों के प्रति अन्याय होगा | बचपन में बच्चों को अपने माता पिता के साथ समय बिताकर तथा वृद्धावस्था में माता पिता को अपने बच्चों के साथ समय बिता कर सबसे अधिक खुशी प्राप्त होती है | अपने रिश्तो के प्रति अपनी जिम्मेदारी न भूलें | रिश्तो में प्यार और स्नेह का एहसास सदा बनाए रखें |

       पढ़िए : क्यों कुछ लोग जीवन में सफलताके शिखर तक नहीं पहुँच पाते ?

No comments:

Post a Comment