Breaking

Monday, October 8, 2018

नए जीवन की शुरुआत | The beginning of a new life

men reading novel in metro

रेलगाड़ी पूरी तरह से यात्रियों से भरी हुई थी | रेलगाड़ी में ही एक मां और उसका बेटा भी यात्रा कर रहे थे | बेटा खिड़की के साथ वाली सीट पर बैठा हुआ था और उसकी मां बेटे के साथ वाली सीट पर बैठी हुई थी | बेटे की आयु लगभग 20  वर्ष थी तथा वह देखने में सुंदर और आकर्षक लग रहा था | स्टेशन आने के कारण रेल गाड़ी रुक गई थी | कुछ सवारियां उतरी और कुछ नई सवारिया रेलगाड़ी में चढ़ी | मां बेटे के सामने की सीट पर एक सज्जन आकर बैठ गए | रेलगाड़ी के चलते ही उस सज्जन ने एक मोटी सी किताब निकाली और पढ़ने में व्यस्त हो गए |

       पढ़िए : परोपकार की श्रंखला   

रेलगाड़ी के रफ्तार पकड़ते ही बेटे ने खिड़की से बाहर देखते हुए मां से कहा “देखो मां यह मकान कितनी तेजी से पीछे की ओर जा रहे हैं” | मां ने कहा “हां बेटा मकान बहुत तेजी से पीछे की ओर जा रहे हैं”, और वह प्यार से अपने बेटे के सिर पर हाथ फेरने लगी | सामने बैठे सज्जन को यह सब बहुत अजीब लग रहा था | उन्होंने देखा कि वह युवक  खिड़की से बाहर देखकर बच्चों की तरह खुश हो रहा था | थोड़ी देर में रेलगाड़ी में एक भिखारी आ गया वह सभी यात्रियों के पास जाकर पैसे मांग रहा था | उस सज्जन के पास आकर भी उस भिखारी ने पैसे मांगे | भिखारी के दोबारा पैसे मांगने पर उस सज्जन की एकाग्रता भंग हुई  और उनके चेहरे पर गुस्से के भाव आ गए | भिखारी के जाने के बाद वह सज्जन एक बार फिर किताब पढ़ने में व्यस्त हो गए |

       पढ़िए :  ईश्वर का चमत्कार

बेटे ने मां से एक बार फिर कहा "मां देखो सूरज भी हमारे साथ चल रहा है" | मां ने हंसते हुए बेटे की बात का समर्थन किया | सामने बैठे हुए सज्जन को अब तो उस युवक पर गुस्सा ही आ गया था | उसे  लग रहा था कि युवक पागलों जैसी बातें कर रहा है और उसकी मां उसकी बातों पर खुश हो रही है | किताब पढ़ने में बाधा पड़ने से वह सज्जन अपने क्रोध को काबू में नहीं रख पाया और युवक की मां को कहने लगा कि “आप इसे किसी अच्छे डॉक्टर को दिखाते क्यों नहीं, इसके कारण दूसरों को भी परेशानी हो रही है” |


boy having eye surgery



मां ने जवाब दिया "इसे डॉक्टर को दिखाया था | यह जन्म से ही अँधा  था | कुछ दिन पहले ही इसका ऑपरेशन हुआ है और आज ही इसकी आंखों की पट्टी खुली है | इसलिए इसके लिए दुनिया की हर दिखाई देने वाली चीज ही नई है | इसीलिए वह हर चीज को देखकर अपनी खुशी जाहिर कर रहा है” | उस सज्जन ने अपने कहे हुए शब्दों के लिए माफी मांगी | उन्हें यह समझ आ गया था कि किसी के बारे में अच्छी तरह जाने बिना उसके बारे में कोई राय बनाना और जल्दबाजी में प्रतिक्रिया जाहिर करना गलत होता है और शर्मिंन्दगी उठाने का कारण बनता है |

No comments:

Post a Comment