Breaking

Sunday, September 30, 2018

सम्मान की रक्षा | Self respect is the most important

हवाई जहाज में लगभग सभी सवारियां बैठ चुकी थी | थोड़ी देर में ही हवाई जहाज उड़ान भरने वाला था | इतने में एक सुंदर युवती ने  हवाई जहाज में प्रवेश किया | वह अपनी सीट की ओर बढ़ने लगी | इतने में उसने देखा कि उसकी साथ वाली सीट पर एक ऐसा व्यक्ति बैठा है जिसकी दोनो टाँगें कटी  हुई हैं | और  उसके  पास ही बैसाखियाँ  पड़ी हुई हैं |

air hostess serving people


 उस आधुनिक युवती को उस अपाहिज व्यक्ति के साथ बैठने में शर्म महसूस हुई | आधुनिक युवती ने एयरहोस्टेस को बुलाकर कहा कि मेरी इस सीट के बदले में मुझे कोई दूसरी सीट दे दीजिये | एयर होस्टेस ने युवती से पूछा कि आप सीट क्यों बदलना चाहती हैं | आपको तो खिड़की के साथ वाली आरामदायक सीट मिली हुई है | आधुनिक युवती  ने कहा “मैं अपाहिजों को पसंद नहीं करती | मैं एक अपाहिज  के साथ वाली सीट पर बैठकर  यात्रा करना अपना अपमान समझती हूँ” | हवाई जहाज में यात्रा करने वाले दूसरे यात्री भी इनकी बातें सुन रहे थे | युवती का ऐसा जवाब सुनकर एयर होस्टेस के साथ-साथ सभी यात्री भी हैरान रह गए | देखने में वह युवती सभ्य और शिक्षित लग रही थी | किसी को भी उससे ऐसे जवाब की आशा नहीं थी | एयर होस्टेस ने एक बार फिर युवती से अपनी ही सीट पर बैठने की प्रार्थना की | महिला ने गुस्से और ऊंची  आवाज में कहा कि मैं इस सीट पर बिल्कुल भी बैठने को तैयार नहीं हूं | मुझे अभी सीट बदलकर दीजिये |


एयर होस्टेस ने हवाई जहाज में एक नजर चारों तरफ घुमाई लेकिन उसे कोई भी सीट खाली दिखाई नहीं दी | एयर होस्टेस ने युवती से कहा "सॉरी मैडम इकोनामी क्लास में कोई भी सीट उपलब्ध नहीं है | आप मुझे थोड़ा समय दें, मैं कप्तान से बात करके आपकी समस्या का कोई हल निकालने का प्रयत्न करती हूं" |

handicapped in flight

       पढ़िए :  आपसी समझ और भरोसा

एयर होस्टेस कप्तान से बात करके थोड़ी देर में लौट आई और उसने महिला को बताया मैडम हवाई जहाज में केवल प्रथम श्रेणी में एक सीट उपलब्ध है | आप की असुविधा दूर करने के लिए इकोनॉमी क्लास से प्रथम श्रेणी में भेजने का हमारी टीम ने निर्णय लिया है | आधुनिक युवती ने प्रथम श्रेणी में जाने के लिए अपना हैंडबैग उठा  लिया और वह विजयी मुस्कान के साथ एयर होस्टेस को कुछ कहने  ही लगी थी तभी..... एयर होस्टेस ने उस अपाहिज व्यक्ति से निवेदन किया सर आपको होने वाली असुविधा के लिए हमें खेद है लेकिन आप  प्रथम श्रेणी में जाने की कृपा | क्योंकि हम नहीं चाहते कि कोई अशिष्ट यात्री आप के सम्मान को ठेस पहुंचाए | दिव्यांग के प्रति सम्मान दर्शाने वाला यह निर्णय सुनकर सभी यात्रियों ने ताली  बजाकर इस अच्छे निर्णय का स्वागत किया | अब उस आधुनिक युवती की सारी अकड़ एकदम गायब हो गई तथा उसे अपने किए हुए गलत व्यवहार पर शर्मिंदगी महसूस होने लगी |

       पढ़िए : कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

जाते हुए उस अपाहिज ने अपना परिचय सबको देते हुए बताया कि मैं एक भूतपूर्व सैनिक हूँ और युद्ध के दौरान एक बम विस्फोट में  मैंने  अपनी दोनों टाँगे खो दी | थोड़ी देर पहले इन मैडम के व्यवहार को देखकर मैं यह सोच रहा था कि मैंने किन लोगों की सुरक्षा के लिए अपने प्राणों को जोखिम में डाला और अपनी टांगे भी गवाइ | लेकिन आप सब के अच्छे व्यवहार के कारण मैं अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं | मेरे लिए यह गर्व की बात है कि जिन देशवासियों के लिए मैंने कुर्बानी दी वह मेरा सम्मान कर रहे हैं | इतना कहकर वह अपाहिज अपनी प्रथम श्रेणी की सीट पर बैठने के लिए चला गया |

       पढ़िए : 90% विकलांग होने के बाद भी बना  विश्व का महान वैज्ञानिक

अपने असंवेदनशील व्यवहार के कारण वह आधुनिक युवती  सबके उपहास का कारण बन कर रह गई थी | दूसरों का यथायोग्य सम्मान करने से आपको भी सम्मान मिलता है |

       पढ़िए : मुकेश अंबानी से भी अमीर बनाने वाला बिजनेस

No comments:

Post a Comment