Breaking

Tuesday, March 6, 2018

सकारात्मक सोच के सकारात्मक परिणाम | positive thinking positive results


       एक प्रतिष्ठित जूता कंपनी ने अपनी उत्तम गुणवत्ता के कारण अपने राज्य में अच्छी प्रतिष्ठा तथा साख बना ली थी |  कंपनी ने अपने कारोबार का विस्तार अन्य राज्यों में भी करने का निर्णय लिया |  कंपनी ने पड़ोस के राज्य में अपने कारोबार को बढ़ाने के इरादे से अपने एक वरिष्ठ सेल्समैन को उस राज्य में सर्वेक्षण करने की जिम्मेदारी सौंपी | उसे वहां पर व्यापार की संभावनाओं के संबंध में अपनी विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए भी कहा गया |  वह वरिष्ठ सेल्समैन उस राज्य में गया | उसने वहां के लोगों से मुलाकात की तथा वहां की परिस्थितियों का गहन अध्ययन किया |




       पढ़िए : जैसे कर्म करेगा, वैसे फल देगा भगवान

       सर्वेक्षण, अपने अनुभव एवं  समझ के अनुसार उसने अपनी रिपोर्ट तैयार की तथा कंपनी को सौंप दी | उसने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि यहां पर कंपनी की शाखाएं तथा उत्पादन के लिए फैक्ट्री खोलना व्यर्थ है | यहां के अधिकांश भू भाग पर जंगल है | यहां के अधिकांश लोग आदिवासी होने के कारण जूते पहनते ही नहीं हैं | इसलिए यहां पर जूतों की मांग ही नहीं है |  यदि यहां पर कंपनी की शाखाएं तथा फैक्ट्री खोली जाती है, तो कंपनी को एक बड़ा नुकसान होने की संभावना है | मांग न होने के कारण आपूर्ति करना बेकार ही साबित  होगा |


       पढ़िए : सबकी मनोकामना पूर्ण करेगी कामधेनु गौ माता

       कंपनी के निदेशक इस रिपोर्ट से संतुष्ट नहीं हुए | उन्होंने एक अन्य वरिष्ठ सेल्समैन को उस राज्य में सर्वेक्षण करने के लिए कहा | उसे भी सर्वेक्षण के आधार पर वहां पर व्यापार की संभावनाओं के बारे में अपनी विस्तृत रिपोर्ट देने के लिए कहा गया | यह सेल्समेन भी उस राज्य में गया | वहां के स्थानीय लोगों से मिलकर बातचीत की तथा वहां की परिस्थितियों का पूर्णतः अध्ययन किया | राज्य के सर्वेक्षण, वहां की परिस्थितियों तथा अपनी समझ के अनुसार इस वरिष्ठ सेल्समैन ने भी अपनी रिपोर्ट तैयार की तथा कंपनी के निदेशक मंडल को सौंप दी | रिपोर्ट के अनुसार इस राज्य में कारोबार का विस्तार करना कम्पनी के लिए पूर्णतः हितकर है | कारोबार के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं | यहां के लोग पैरों में जूते नहीं पहनते हैं | इसलिए यहां पर अभी तक मांग नहीं है | यहां के लोगों को जूतों की उपयोगिता के बारे में समझाकर मांग पैदा की जा सकती है |  यदि यहां पर कंपनी की शाखाएं तथा फैक्ट्री खोली जाती है, तो कंपनी को बहुत अधिक लाभ होने की संभावना है | वर्तमान में यहां पर किसी और जूता कम्पनी की फ़ैक्टरी न होने के कारण प्रतिस्पर्धा बिलकुल भी नहीं है |

       पढ़िए : मुकेश अंबानी से भी अमीर बनाने वाला बिजनेस

       कंपनी के निदेशक मंडल ने दोनों रिपोर्टों का अध्ययन किया | दोनों रिपोर्टों को देखने के बाद निदेशक मंडल ने दूसरे वरिष्ठ सेल्समैन की सोच पर अपना विश्वास जताया | उस राज्य में अपनी शाखाएं तथा फैक्ट्री खोलने का निर्णय लिया |  दूसरे वरिष्ठ सेल्समैन को वहां का मैनेजर नियुक्त कर दिया | कुछ समय के बाद यह योजना बिल्कुल सही साबित हुई | दिन प्रतिदिन राज्य में जूतों की मांग तथा कंपनी का लाभ बढ़ने लगा | सकारात्मक सोच वाला व्यक्ति ही प्रतिकूल परिस्थितियों में से भी अनुकूल परिणाम प्राप्त करने का प्रयत्न कर सकता है |

       पढ़िए : आपका खुशियों भरा परिवार, आपकी तीन पीढ़ियों की खुशियों का आधार

No comments:

Post a Comment