Breaking

Wednesday, March 14, 2018

क्रोध पर काबू कैसे पाएं | How to control anger motivational story


angry Indian man copyright free image pixabay
        एक महान दार्शनिक तथा संत थे | उनके ज्ञान के कारण उनकी ख्याति सर्वत्र फैली हुए थी | उनके अच्छे स्वभाव से भी सभी प्रभावित थे | उनकी वाणी भी बहुत मधुर एवं प्रभावशाली थी | उनका यह नियम था कि वह सत्संग करते समय पहले प्रवचन करते थे, उसके बाद सत्संग में उपस्थित श्रद्धालुओं की जिज्ञासाओं एवं प्रश्नों का  उत्तर देकर निवारण करते  थे | श्रद्धालु भी अपनी जिज्ञासाओं और  प्रश्नों और  का सरल भाषा में उत्तर पाकर संतुष्टि का अनुभव करते थे |

      पढ़िए : शादी की सालगिरह का सबसे बड़ा तोहफा

       एक दिन प्रतिदिन के नियम के अनुसार संत जी ने पहले प्रवचन किये उसके बाद श्रद्धालुओं के प्रश्नों और उत्तर का कार्यक्रम शुरू हो गया | एक श्रद्धालु ने किसी विषय पर कुछ जानने की जिज्ञासा प्रकट की | संत जी ने उस विषय पर उस श्रद्धालु को धर्म के अनुसार जानकारी अपनी मधुर वाणी में दे दी | श्रद्धालु उस उत्तर से संतुष्ट नहीं हुआ |


indian sadhu baba copyright free image
        वह संत जी से बहस करने लगा | संत जी शांत भाव से मुस्कुराते हुए उसकी बात पूरे ध्यान से सुनते रहे | संत जी का निरंतर मुस्कुराते रहना किसी  कारण श्रद्धालु को अच्छा नहीं लगा | वह थोड़ा क्रोधित होते हुए ऊंची आवाज में बोलने लगा तथा संत जी को बुरा भला भी कहने लगा | संत जी अपने स्वभाव के अनुसार मुस्कुराते हुए  उसकी बात सुनते रहे | श्रद्धालु का गुस्सा और अधिक बढ़ गया था और वह संत जी के प्रति अपशब्दों का प्रयोग करने लगा था | लेकिन संत जी के चेहरे पर अभी भी मुस्कुराहट और शांति के भाव पहले के समान  ही बने हुए थे | संत के सेवकों को श्रद्धालु का इस तरह दुर्व्यवहार करना बुरा लगा | कुछ सेवक संत के समर्थन में बाजू चढ़ाते हुए आगे आ गए थे | अन्य श्रद्धालु भी उस व्यक्ति को जबरदस्ती पकड़कर  आश्रम से बाहर ले जाने का प्रयत्न करने लगे थे | संत ने अपने सेवकों को और दूसरे श्रद्धालुओं को दखल न देने का संकेत किया | थोड़ी देर असभ्यता से  बोलने के बाद वह व्यक्ति सत्संग स्थल से बाहर चला गया |


       सत्संग समाप्त होने पर सेवकों ने संत से कहा कि आपने उस बदतमीज व्यक्ति पर क्रोध क्यों नहीं किया | आपने उसके दुर्व्यवहार पर प्रतिक्रिया क्यों नहीं की | यदि आप हमें नहीं रोकते तो हम उस व्यक्ति को उसके बुरे व्यवहार के लिए दंडित अवश्य करते |


       संत ने उत्तर दिया कि “ तेजाब सबसे अधिक हानि उस बर्तन को ही पहुंचाता है, जिसमें तेजाब होता है | इसी प्रकार क्रोध उसी व्यक्ति को सबसे अधिक हानि पहुंचाता है, जिसके मन और दिमाग में क्रोध होता है “ | दूसरे द्वारा निंदा करने से हमारी प्रसन्नता प्रभावित नहीं होनी चाहिए | हमारी प्रसन्नता का नियंत्रण  यदि  दूसरे व्यक्तियों द्वारा किया जाता है तो हम जीवन में आनंदित नहीं रह सकते | क्रोध मनुष्य के पतन का मार्ग  होता है, जिसका रचयिता वह स्वयं ही होता है | क्रोध में आकर किए गए निर्णय अधिकतर गलत साबित होते हैं | क्रोध मनुष्य की समझ को समाप्त कर देता है | क्रोध जिस पर किया  जा रहा है उसकी तुलना में क्रोधी  को स्वयं अधिक हानि पहुंचाता है |

       पढ़िए : कैसे आई बहू की अक्ल ठिकाने

No comments:

Post a Comment