Breaking

Wednesday, March 14, 2018

शादी की सालगिरह का सबसे बड़ा तोहफा | Best gift for wedding anniversary


happily married couple
       राजेश और रेनू  एक ही कंपनी में इंजीनियर  के पद पर काम करते थे | कंपनी में ही इनकी आपस में मुलाकात हुई | समान अच्छे स्वभाव के कारण जल्द ही वे एक दूसरे की ओर आकर्षित हो गए | ऑफिस की दोस्ती प्यार में बदल गई | मोबाइल पर घंटों न खत्म होने वाला बातचीत का सिलसिला शुरू हो गया | दोनों अलग-अलग जातियों से संबंध रखते थे | घरवाले इस विवाह के लिए सहमत नहीं थे | बहुत मुश्किल से विवाह की नाम मात्र की औपचारिक सहमति प्राप्त करके उन्होंने विवाह कर लिया था |

      पढ़िए : मनहूस या मसीहा


       शादी से पहले उन्हें एक दूसरे में केवल गुण ही  दिखाई  देते थे | लेकिन शादी के कुछ समय बाद ही छोटी मोटी बातों पर विचारों में मतभेद होने लगे थे | प्रायः आपस में बहस होने के कारण कुछ दिन के लिए आपस में बातचीत बंद हो जाती थी | दो दिन पहले आपस में बहस होने के कारण दोनों की बातचीत बंद चल रही थी | आज राजेश और  रेनू की शादी की सालगिरह थी | दोनों में से किसी ने भी एक दूसरे को शादी की सालगिरह की मुबारकबाद नहीं दी |

       पढ़िए : 90% विकलांग होने के बाद भी बना  विश्व का महान वैज्ञानिक


        राजेश तैयार होने के बाद  बिना कुछ बताए बाहर चला गया | कुछ देर के बाद जब राजेश वापस आया उसके हाथ में एक गुलदस्ता, केक और खाने-पीने का सामान था | रेनू ने एक मुस्कान के साथ राजेश का स्वागत किया | लेकिन राजेश ने कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की | राजेश कुछ परेशान सा लग रहा था | राजेश के इस व्यवहार पर रेनू को गुस्सा आ रहा था | गुस्से के कारण रेनू रसोई में जाकर व्यस्त हो गई |

man holding flowers bouquet
       पढ़िए : अब्राहम लिंकन की असफलताओं से महान सफलता तक की यात्रा

       राजेश एक बार फिर घर से बाहर चला गया था | कुछ ही देर बाद घर की घंटी बजी | रेनू ने जाकर दरवाजा खोला | अपने सामने दो पुलिस वालों को देखकर रेनू परेशान हो गई | पुलिस वाले ने रेनू से पूछा क्या राजेश यही रहता है | रेनू ने बताया कि वह मेरे पति हैं | एक पुलिस वाले ने बताया कि राजेश का सड़क पर एक्सीडेंट हो गया था | उसकी मौके पर ही मृत्यु हो गई | उन्होंने बताया कि मृतक के पर्स में से मिले कुछ दस्तावेजों में दिए गए पते से वह यहां तक पहुंचे हैं | रेनू को विवाह की सालगिरह के दिन ऐसे हमेशा के लिए बिछड़ने की खबर मिलने की आशा न थी | यह खबर सुनते ही रेनू की आंखों से अविरल आंसुओं की धारा बहने लगी |
      एक पुलिस वाला एक्सीडेंट के बारे में कुछ बता रहा था | लेकिन रेनू को मन में चल रहे विचारों के कारण  कुछ भी न तो सुनाई नहीं दे रहा था और न ही समझ आ रहा था | आंसुओं से भीगी आंखों से रेनू को ऐसे लगा कि सामने राजेश आ गया है | राजेश की आवाज सुनकर वह चौंक उठी | उसके सामने सचमुच राजेश खड़ा था | वह उससे रोते हुए लिपट गई | राजेश ने पुलिस वालों से घर में आने का कारण पूछा | पुलिस वालों ने राजेश को एक्सीडेंट वाली सारी बात बता दी | तब राजेश ने बताया कि वह जब केक गुलदस्ता लेकर आ रहा था तो उसका पर्स किसी पाकेटमार ने निकाल लिया था | इसीलिए वह कुछ और सामान लेने के लिए पैसे लेने ही घर आया था | राजेश का सही सलामत घर में आ जाना ही रेनू के लिए शादी की सालगिरह का सबसे बड़ा तोहफा था |

      पढ़िए : कर्म करके भाग्य का निर्माण किया जा सकता है 

       पति पत्नी के रिश्तों की मधुरता ही परिवार के आधार को मजबूती प्रदान करती है | पति पत्नी के सात  जन्मों के संबंध  का आधार आपसी विश्वास होता है | रिश्तो में अपनेपन का सदैव अहसास कराते रहना चाहिए |

      पढ़िए : भगवान जो करता है, अच्छा ही करता है

No comments:

Post a Comment