Breaking

Friday, March 16, 2018

90% विकलांग होने के बाद भी बना विश्व का महान वैज्ञानिक | Stephen Hawking Biography


       महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग ने कहा था " मुझे सबसे ज्यादा खुशी इस बात की है कि मैंने ब्रह्मांड को समझने में अपनी भूमिका निभाई | इसके रहस्य लोगों के सामने खोलें और इस पर किए गए शोध में अपना योगदान दे पाया | मुझे गर्व होता है जब लोगों की भीड़ मेरे काम को जानना चाहती हैं " | 90% विकलांग होते हुए भी इन्होंने अपनी असीमित क्षमता और प्रतिभा से पूरे विश्व को प्रभावित किया |

       पढ़िए : कैसे और क्यों मनाते हैं नवरात्रे

       पढ़िए : तुम न जाने किस जहां में खो गए, am emotional motivational story



       स्टीफन विलियम हाकिंग का जन्म 8 जनवरी 1942 को इंग्लैंड के ऑक्सफोर्ड शहर में हुआ था | इनके जन्म से संबंधित एक विचित्र संयोग यह था कि इनका जन्म  8 जनवरी 1942 को हुआ था, जबकि  आधुनिक विज्ञान के पितामह कहे जाने वाले महान वैज्ञानिक गैलीलियो की मृत्यु भी इसी दिन ठीक 300 वर्ष पूर्व 8 जनवरी 1642 को हुई थी | इनके माता-पिता का नाम इसाबेल हॉकिंग और फ्रेंक था | उनके माता पिता काफी शिक्षित थे | स्टीफन हॉकिंग को भी पढ़ाई में विशेष रुचि थी | बचपन में ही अपनी बुद्धिमता के कारण लोग उन्हें "आइंस्टाइन  " कहकर पुकारते थे | उन्होंने भौतिकी और कॉस्मोलॉजी  विषयों में पढ़ाई की | कॉस्मोलॉजी के विषय में ब्रह्माण्ड पर अध्ययन किया जाता है | स्टीफ़न ने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से पीएचडी की थी |
       जब स्टीफ़न  इक्कीस  वर्ष के थे तब उन्हें बार-बार बेहोश होने की बीमारी हो गई थी | स्वास्थ्य संबंधी  टेस्ट करवाने पर डॉक्टरों ने इन्हें " न्यूरान मोर्टार " नामक बीमारी होने की पुष्टि की | यह एक लाइलाज रोग होता है | इस रोग में रोगी के शरीर के सभी अंग धीरे-धीरे काम करना बंद कर देते हैं और वह अंत में जिंदा लाश बन जाता है और तेजी से मृत्यु की तरफ बढ़ने लगता है | इस रोग में सारा शरीर काम करना बंद कर देता है, लेकिन मानसिक स्वास्थ्य ठीक बना रहता है | डॉक्टरों ने जांच करने के बाद कहा कि स्टीफन की अधिकतम दो वर्ष में ही मृत्यु होना निश्चित है | तब स्टीफन  ने अपने आत्मविश्वास और मनोबल को मजबूत करते हुए अगले 50 वर्ष तक जीते रहने की घोषणा कर दी |

       पढ़िए : अब्राहम लिंकन की असफलताओं से महान सफलता तक की यात्रा

       जब तक इन्होंने अपनी शिक्षा पूरी की तब तक इनके शरीर के दाहिने भाग के अंगों ने काम करना बंद कर दिया था | यह बैसाखी का सहारा लेकर चलने लगे थे | सन 1965 में नए साल के आगमन पर हुई एक पार्टी में जेन वाइल्ड  से इनकी मुलाकात हुई | यह एक दूसरे से बहुत प्रभावित हुए | और इन्होंने शादी कर ली | सन 1995 में इनका  तलाक हो गया | सन 2006 में इनका दोबारा विवाह इलियाना मैसन से हुआ |

      पढ़िए : भगवान जो करता है, अच्छा ही करता है

       स्टीफ़न ने ' ब्लैक होल '  और ' बिग बैंग ' के सिद्धांत पर शोध करके इसके बारे में सारे विश्व को महत्वपूर्ण जानकारियां दी | इन्होंने ही सर्वप्रथम प्रमाणित किया था कि ब्लैक होल से भी कुछ मात्रा में रेडिएशन निकलता है | इनकी इसी खोज को हाकिंग रेडिएशन के नाम से जाना जाता है | इन्होंने “A brief history of time “ शीर्षक से एक पुस्तक लिखने के बाद  प्रकाशित की | जिसमें ब्लैक होल और बिंग बैंग  थ्योरी को इतनी सरल भाषा में समझाया कि जिसे एक साधारण व्यक्ति भी समझ सके | इस पुस्तक ने पूरे विश्व में ऐसे विषयों पर तब तक प्रकाशित सभी पुस्तकों  के सारे कीर्तिमान तोड़ दिए | इस पुस्तक की  लाखों प्रतियां रिकॉर्ड समय में ही बिक गई थी |
       " चाहे जिंदगी जितनी भी मुश्किल लगे आप हमेशा कुछ न कुछ कर सकते हैं, और सफल हो सकते हैं ऐसी महान सोच रखने वाले महान वैज्ञानिक का लगभग 76 वर्ष की आयु में 14 मार्च 2018 को निधन हो गया |

       पढ़िए : कैसे आई बहू की अक्ल ठिकाने

No comments:

Post a Comment